Girls are kept topless in this Indian temple, serve liquour to Devta

nakedMADURAI: For ages around this time of the year, residents of Vellalur Nadu near Sivaganga district organise a 15-day festival for their deity – Ezhai Kaatha Amman (Goddess, who protect the poor). Guess what grabs the attention? The custom of topless adolescent girls in the pre-puberty stage participating in the celebrations. Activists now want to put an end to it and intend to escalate it to the Human Rights Commission.
The Ezhai Katha Amman Temple is 10 km away from Madurai on Melur-Sivaganga High Road. It is known as the deity of a group called Ambalakarar in Vellalur Nadu near Sivagangai district.
Each year, seven girls are selected by the priest as ‘seven ammans’ and are made to live topless on the temple premises till the festival comes to an end. The cherry-picking of the girls happens without their consent. They are forced by parents to follow the practice.
On the last day of the festival, women from the village and the seven girls are asked to carry pots of liquor as an offering to the goddess. While doing so, women too are not allowed to wear blouses. This year, the festival started on September 12 and was on till Tuesday. “This is a custom that we are practicing for so many years now. During the festival, for 15 days, these children are treated as goddess. It would indeed be a matter of pride if our child is selected as one among the seven. Everyday, they have to perform activities that relate to the amman and they will not be allowed to attend school for 15 days,” said Shanthi, a resident of Vellalur, adding the children stay along with the temple priest.
Commenting on the practice, advocate Selva Gomathi, a feminist based out of Madurai said, “We respect all religion. But, at the same time, their belief should not amount to human rights violation. Only women and kids are part of this practice,” she rued.
Condemning it, she said, “During the 15 days, these children are forced to stay in temple. What about their safety? There is a chance for child abuse. Will there be an issue if children and women wear their tops and carry out the rituals? This seems like women and girl children are treated like sexual objects. Such practices are against women and child rights. We will take this issue to the Human Rights Commission,” she said.
nakedइस मंदिर में लड़कियों को रखा जाता है टॉपलेस, सैकड़ों में सिर्फ 7 का सिलेक्शन
चेन्नई/मुंबई. तमिलनाडु के मदुरै में परंपरा के नाम पर कम उम्र की लड़कियों को टॉपलेस करके 15 दिनों तक मंदिर में रखा जाता है। यहां इनको देवी रूप में सजाकर पूजा की जाती है, लेकिन शरीर के ऊपरी हिस्से पर कोई कपड़ा नहीं पहनाया जाता। हालांकि, इस बार कलेक्टर ने सख्ती दिखाते हुए लड़कियों के पूरे शरीर को ढंकने का आर्डर दिया है। साथ परिजनों को भी बेटियों के साथ रहने का आदेश दिया है। 60 से ज्यादा गांवों के लोग शामिल…
– दरअसल, यहां पुरानी धार्मिक रीति-रिवाज के नाम पर 7 या उससे अधिक लड़कियों को देवी रूप में सजाया जाता है।
– इस दौरान उनके शरीर के ऊपरी हिस्से को निर्वस्त्र करवा दिया जाता है, जबकि कमर से नीचे वे धोतीनुमा वस्त्र पहन सकती हैं।
– इस परंपरा के तहत मदुरै के आसपास के तकरीबन 60 से ज्यादा गांवों के लोग शामिल होते हैं।
– उन लड़कियों (जिनके अभी तक पीरिएड्स शूरू नहीं हुए हों) को देवी रूप में 15 दिनों तक मंदिर जाकर पूजते हैं।
– यह भी एक प्रकार से 1988 में प्रतिबंधित हो चुकी ‘देवदासी प्रथा’ का एक ही रूप है।
– इन लड़कियों को घर से दूर रहने के अलावा 15 दिन तक पढ़ाई से भी वंचित कर दिया जाता है।
– इस पूरे त्यौहार रूपी समारोह के खत्म होने पर पांच लड़के उन लड़कियों के वस्त्रों को हटाते हैं, जिससे वे निर्वस्त्र हो जाती हैं।
कोई गलत हरकत नहीं होती
– स्थानीय लोगों का मानना है कि इन पंद्रह दिनों तक मंदिर में रहने के दौरान इन लड़कियों के साथ किसी भी तरह की गलत हरकत नहीं होती।
– इस पखवाड़े के दौरान मंदिर के पुरुष पुजारी उन लड़कियों की देखभाल और सुरक्षा का जिम्मा उठाते हैं।
– मदुरै के डीएम के. वीरा राव का कहना है कि यह 200 साल पुरानी परंपरा है। इसके लिए घरवाले मर्जी से ही अपनी लड़कियां मंदिरों में भेजते हैं। हमें किसी की ओर से अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है।
– हालांकि, अब डीएम ने इन लड़कियों के शरीर को पूरी तरह से कपड़े से ढंकने से आदेश जारी कर दिए हैं।
नोटिस जारी
– उधर, नेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन ने इस मामले को लेकर तमिलनाडु सरकार को नोटिस जारी किया है और चार हफ्तों के भीतर रिपोर्ट मांगी है।
– आयोग ने कहा है कि अगर लड़कियों को टॉपलेस रखने का मामला सही है तो यह मानव अधिकारों का सरासर उल्लंघन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *