Why Nasir Hussain (Aamir Khan’s uncle) and Asha Parekh could not marry?

asha-parekh nasir hussainYesteryear actress Asha Parekh says the late filmmaker Nasir Hussain was the only man she ever loved.
For years, the entertainment business has known of the celebrated actor’s long-standing relationship with Hussain who not only introduced her in Dil Deke Dekho in 1959, they went on to collaborate on seven feature films, all superhits including Teesri Manzil and Caravan.
They also a shared a personal relationship that has come to light in Asha Parekh’s new autobiography The Hit Girl.
On the need to speak out about the love of her life, the actor said, “Yes, Nasir Saab was the only man I ever loved. It would’ve been worthless to write an autobiography if I didn’t write about the people who mattered in my life.”
She credits her co-author for putting that part of her life. “My co-author Khalid Mohamed handled the whole episode so discreetly and gracefully,” she said.
Asha Parekh reveals that she never got married as she never wanted to take Hussain away from his family.
“I was never a home-breaker. There was never any ill will between me and Nasir Saab’s family. In fact, I was so happy to see Nusrat (Hussain’s daughter) and Imran Khan (grandson) at my book launch. I feel I’ve lived my life decently and without hurting anyone,” she added.
आमिर के चाचा से था इस एक्ट्रेस का अफेयर, इस वजह से नहीं हो पाई शादी
लीजेंडरी एक्ट्रेस आशा पारेख आज अपना 75वां बर्थडे (2 अक्टूबर) सेलिब्रेट कर रही हैं। बॉलीवुड की कई सुपरहिट फिल्मों में काम करने वाली आशा पारेख ने कभी शादी नहीं की। हां, उनका अफेयर आमिर खान के चाचा फिल्ममेकर नासिर हुसैन के साथ रहा, लेकिन दोनों की ही फैमिली के सम्मान को ध्यान में रखते हुए उन्होंने शादी नहीं की। हालांकि, नासिर हुसैन अब इस दुनिया में नहीं है। खुद कबूला था अफेयर…
आशा ने एक इंटरव्यू में बताया था, ‘हां, नासिर साहब ही एकमात्र ऐसे मर्द थे जिनसे मैंने प्यार किया। मैं कभी भी घर तोड़ने वाली नहीं रही। मेरे और नासिर साहब की फैमिली के बीच कभी कोई अनबन नहीं हुई। मैं कभी हुसैन को उनकी फैमिली से अलग नहीं करना चाहती थीं, और इसी डर से मैंने शादी नहीं की’। उन्होंने बताया, ‘मेरी मां चाहती थी कि मेरी शादी किसी तरह से हो जाए। उस वक्त उन्होंने कोशिश भी की लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। मेरी इच्छा थी कि मैं शादी तब करूं जब मुझे मेरा मनपसंद साथी मिले। ऐसा नहीं हुआ, इसलिए मैंने शादी नहीं की।
आशा पारेख ने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट फिल्मों में अपना करियर शुरू किया था। 10 साल की उम्र में डायरेक्टर बिमल रॉय ने आशा को एक फंक्शन में डांस करते देखा था। और उन्हें फिल्म में काम करने का ऑफर दे दिया। उन्होंने 1952 में आई फिल्म ‘मां’ से सिल्वर स्क्रीन पर कदम रखा था। इसके बाद में 1954 में आई फिल्म ‘बाप बेटी’ में भी नजर आईं। कुछ और फिल्मों में काम करने के बाद उन्हें खास सफलता नहीं और उन्होंने एक्टिंग छोड़कर दोबारा स्कूल ज्वाइन किया। 16 साल की उम्र में उन्होंने दोबारा एक्टिंग में किस्मत आजमाने की सोची।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *