New turn in suicide case of gutka maker Pankaj Chaurasia

suicideLUCKNOW: New turn has come in suicide case of gutka maker Pankaj Chaurasia as his mother has accused his wife of forcing him to commit suicide.
A member of a family engaged in pan masala and hospitality business committed suicide at his residence two years ago. Pukar masala manufacturer and hotelier, 41-year-old Pankaj Chaurasia was at his Khursheed Bagh, Naka residence where he shot himself in the head with a .32 bore licensed pistol.
A couple of months back Sanjiv Mishra (38), owner of Shyam Bahar pan masala brand, shot himself at his Kundri, Rakabganj located residence. Chaurasia’s family maintained he decided to end his life after a minor domestic dispute on Tuesday. “Pankaj was depressed for the past few years. A minor argument between my brother and his wife broke out in the morning. We did not pay much attention to it as couples usually argue over trivial issues. Around noon, we heard a gunshot and took him to KGMU’s trauma centre,” said Pushkar Jaiswal, Pankaj’s elder brother at the hospital.
The Jaiswals run the business under the firm Durga Trading Company and have diversified over the past few years to hospitality business as well and own a hotel on Charbagh station road. Though family and relatives had gathered at the hospital in large numbers, they avoided questions by scribes about the sequence of even
Police learned about the incident and in charge of Naka police station reached the hospital at 2.45pm, about three hours after the incident took plac
The family stays in a sprawling bungalow. Pankaj’s father Udaichandra and two of his brothers Pushkar and Rajkumar stay in separate portions with their families. While the kin remained tight lipped about the incident police said preliminary inquiries indicate all was not well within the family. “The house had been divided into portions but business was not. Deceased’s wife Nisha felt he was being sidelined by other family members and used to nag him over it,” said a source. The family has landed into trouble several times for evading tax in the past. Udaichandra dismissed the family rift charges claiming that business operations among three sons had been divided long back.
CO Kaiserbagh area Hirdesh Katheriya said a suicide note was found on a table inside Pankaj’s bedroom. “It will be sent to handwriting expert with samples of his other writing,” he added.
When Sanjiv Mishra died his kin too claimed he committed suicide due to depression. The incident took place on February 11 and deceased’s wife Meenakshi approached Wazirganj police after 25 days of the incident with a complaint against the deceased’s brother and sister. She alleged he had been shot dead and it was murder not suicide. Mishra’s brother after few days alleged that Meenakshi was responsible for the murder. Police continue to treat the case as suicide so far shelving the matter for now.
शादी के 3 महीने बाद ही बेटे ने क‍िया सुसाइड, मां ने बहू पर लगाए ये आरोप
लखनऊ.श्याम बहार गुटखा कंपनी के मालिक की गिरफ्तारी के मामले में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। गिरफ्तार राहुल मिश्रा की मां मालती मिश्रा ने dainikbhaskar.com से फोन पर बातचीत के दौरान कई सनसनीखेज खुलासे किए। उन्होंने कहा, ”बहू की वजह से ही शादी के 3 महीने बाद मेरे बड़े बेटे ने सुसाइड कर ल‍िया। फ‍िर घर में ह‍िस्सा लेने के ल‍िए धमकी देने लगी। इसके अलावा मेरे, मेरे पत‍ि और छोटे बेटे के ख‍िलाफ धोखाधड़ी समेत कई केस दर्ज करा द‍िए।” आगे पढ़‍िए पूरा मामला…
– राजधानी के वजीरगंज थानाक्षेत्र के शास्त्रीनगर न‍िवासी सुबोध मिश्रा ने 1983 में श्यामबहार कंपनी की नींव रखी थी। सुबोध की पत्नी मालती ने बताया, “बेटा संजीव जब बड़ा हुआ तो उसने पिता के साथ बिजनेस संभालना शुरू कर दिया। उसने अपनी मेहनत और लगन से श्याम बहार के नाम से 7 कप‍न‍ियां खड़ी कर दी।”
-“संजीव ने 44 साल की उम्र तक शादी नहीं की। जब हमने दबाव बनाया तो उसने 45 साल की उम्र में इटावा की रहने वाली मीनाक्षी से शादी कर ली, लेकिन शादी के 3 महीने बाद ही 11 फरवरी 2014 की सुबह घर में ही गोली मारकर सुसाइड कर ल‍िया। उस समय मीनाक्षी मायके गई हुई थी। घर में केवल गार्ड और ड्राइवर थे। हम लोग भी घर से थोड़ी दूर पर स्थित पैतृक मकान में थे।”
संजीव की मौत के बाद बिखर गया परिवार
-पीड़‍ित मालती ने बताया, “संजीव शादी के बाद से ही गुमशुम रहने लगा था, लेकिन कभी उसने घर वालों को कुछ नहीं बताया। शादी के 3 महीने के अंदर ही उसने सुसाइड कर ल‍िया, जिसके बाद पूरा परिवार बिखर गया।”
-“छोटा बेटा राहुल पत्नी के साथ ज्यादातर बाहर ही रहता था। पूरा बिजनेस संजीव ही संभालता था। उसके मौत के बाद उसकी पत्नी ने आए दिन विवाद करना शुरू कर दिया, जिससे धीरे-धीरे 1 साल के अंदर ही कंपनी बंद हो गई। उसने संपत्ति के लिए विवाद करना शुरू कर दिया।”
-“हम उसे प्रॉपर्टी देने को तैयार थे, लेकिन वह यहां से बेच कर अपने मायके भागने के फिराक में थी जिसको लेकर आए दिन कलह होने लगी। एक बार उसने मुझे हाथ पकड़कर घर के बाहर निकाल दिया। उस समय घर के ड्राइवर और नौकरों के हस्तक्षेप के बाद मुझे घर में आने दिया। ”
-संजीव के फैमि‍ली से जुड़े एक शख्स ने बताया, संजीव की मौत के बाद उनके घर का झगड़ा बढ़ता ही जा रहा था। बहू के मायके वाले संजीव के दूसरे घर में आकर रहने लगे थे। बहू मीनाक्षी भी उनके साथ रहती थी।
-जब विवाद बढ़ता गया तो संजीव के छोटे भाई राहुल ने पहल की और भाभी से समझौते की बात की। बाद में मीनाक्षी ने 1 करोड़ रुपए, एक हुंडई कार और शादी के तकरीबन 30 लाख के गहने लेकर समझौता कर लिया।
-बताया जाता है कि यह समझौता लिखित रूप से किया गया। मीनाक्षी ने भी बातचीत के दौरान 1 करोड़ के समझौते की बात स्वीकार की है।
जाली दस्तावेजों की बात मां ने सिरे से क‍िया खारिज
-मालती मिश्रा ने बताया, “हर कंपनी में उसके पति और बड़ा बेटा मालिक थे। मेरे बेटे राहुल ने किसी भी कंपनी को जाली दस्तावेज के सहारे नहीं कब्जाई है। वह कंपनी का मालिक है, जो उसे उसके पिता से मिली है। उस पर लगाए गए आरोप फर्जी हैं। बहू मीनाक्षी तो समझौता करने के बाद मायके चली गई थी।”
राहुल की पत्नी बोली- अभी भी मीनाक्षी को रखने के लिए हैं तैयार
-ग‍िरफ्तार राहुल की पत्नी ने बताया, “अगर मीनाक्षी यहां बहू की तरह रहना चाहे तो सास-ससुर अब भी रखने के लिए तैयार हैं, लेकिन वह यहां की संपत्ति बेचकर मायके जाना चाहती है। उसके भाई और परिवार के अन्य लोग उसे इस काम के लिए उकसा रहे हैं।”
-“भैया की मौत के बाद मीनाक्षी कुछ दिन तक अपने मायके वालों के साथ उसी घर में रहती थी, जहां उन्होंने सुसाइड किया था। एक दिन जब मैं उनसे मिलने गई तो उसके पिता ने मुझे अन्दर आने से रोक दिया। वे लोग मीनाक्षी को पूरी तरह से अपने बस में रखना चाहते थे।”
नौकर ने बताया, बहुत खुशहाल था परिवार
-श्याम बहार पान मसाला कंपनी के मालिक के घर तकरीबन 35 साल से काम कर रहे शिवकुमार ने बताया, “यह परिवार बहुत खुशहाल था, लेकिन संजीव की शादी के बाद से इस परिवार का बुरा वक्त शुरू हो गया।”
-”आए दिन होने वाले झगड़े से कंपनी तो डूबी ही, घर की खुशियां भी छीन गई। शादी के बाद संजीव पैतृक घर के पास ही स्थित अपने दूसरे मकान में शिफ्ट हो गए थे, वहीं उनकी मौत हुई।”
मीनाक्षी ने देवर पर लगाए हैं ये आरोप
– मीनाक्षी का आरोप है कि पति की मौत के बाद देवर राहुल ने उसे घर से निकाल दिया। इसके बाद प्रॉपर्टीज की फर्जी वसीयत बनाकर अपने नाम करवा ली। इन्हीं फर्जी दस्तावेजों के आधार पर उन्होंने संजीव की काफी सम्पत्ति भी बेच डाली थी।
– श्याम बहार गुटखा के ट्रेडमार्क को भी राहुल ने गलत हलफनामे के आधार पर हथिया लिया। जब मुझे इस फर्जीवाड़े की जानकारी हुई तो मैंने उच्च अधिकारियों से शिकायत की और थाने में मुकदमा दर्ज करवाया।
– गिरफ्तार राहुल काफी समय से फरार चल रहा था। कई महीनों से छिपकर स्थान बदलकर रह रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *