Congress wins Gurdaspur bypoll with 2 lakh votes, wrests seat from BJP

gurdaspurAfter winning the Assembly election in Punjab early this year, the Congress today won the Gurdaspur Lok Sabha seat. Its candidate Sunil Jakhar defeated BJP’s Swaran Salaria with a huge margin of 1,93,219 votes. Jakhar polled 4,99,752 votes while Salaria polled 3,06,533, poll official said. Aam Aadmi Party (AAP) nominee Major General (Retd) Suresh Khajuria polled 23,579 votes.
The seat had fallen vacant after the death of BJP MP Vinod Khanna in April this year. The Congress had last won the seat in 2009 when Partap Singh Bajwa defeated BJP’s Vinod Khanna. Khanna was a four-time MP from Gurdaspur and won the seat in 1998, 1999, 2004 and 2014. An elated Jakhar thanked voters for his resounding victory in the bypoll.
VICTORY FOR CONGRESS
Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh said it was a victory for the Congress’ “policies and development agenda” and congratulated Sunil Jakhar. “Congratulations to @sunilkjakhar ji for his impressive win in #Gurdaspur bypoll, it’s a victory for @INCPunjab policies & development agenda,” Amarinder tweeted.
“We have sent a beautiful Diwali gift packed with red ribbon to our would-be president Rahul Gandhi because it sets the tone… it will be a shot in the arm for the Congress,” said state cabinet minister Navjot Singh Sidhu. He said the victory was a slap on the faces of Shiromani Akali Dal (SAD) chief Sukhbir Badal and Bikram Singh Majithia.
Punjab BJP secretary Vineet Joshi alleged that the Congress misused the official machinery in the bypoll. AAP candidate Maj. Gen. (Retd) Suresh Khajuria also accused the Congress of using “undemocratic means” in the bypoll.
Meanwhile, Indian Union Muslim League (IUML) candidate KNA Khader won the Vengara by-election in Kerala today with a huge margin of more than 23,000 votes.
IUML chief PK Kunhalikutty who vacated the Vengara seat and later won the Malappuram Lok Sabha seat earlier this year said the CPI-M used all its might but IUML was sure of its victory. Kunhalikutty won this seat in the 2016 assembly polls with a margin of over 38,000 vote.
गुरदासपुर बाईपोल: कांग्रेस के जाखड़ 2 लाख वोट से जीते, 8 साल बाद BJP से छीनी सीट
गुरदासपुर सीट विनोद खन्ना के निधन (27 अप्रैल) के बाद खाली हुई थी। खन्ना 4 बार सांसद रहे थे।
चंडीगढ़. कांग्रेस ने गुरदासपुर लोकसभा सीट बीजेपी से छीन ली। कांग्रेस कैंडिडेट सुनील जाखड़ ने बीजेपी के स्वर्ण सलारिया को 1 लाख 93 हजार 219 वोट से हराया। ये सीट विनोद खन्ना के निधन (27 अप्रैल) के बाद खाली हुई थी। गुरदासपुर की हार से अब बीजेपी के पास लोकसभा में 281 सीटें रह गई हैं। जाखड़ को 4 लाख 99 हजार 752, वहीं सलारिया को 3 लाख 6 हजार 533 वोट मिले। हमने तो गिफ्ट भेज दिया…
– आम आदमी पार्टी के कैंडिडेट मेजर जनरल (रिटा.) सुरेश खजूरिया को महज 23 हजार 579 वोट मिले।
– जाखड़ ने कहा, “मैं गुरदासपुर का आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने पार्टी पर भरोसा जताया है। लोगों का कांग्रेस को जिताना मोदी सरकार की नीतियों को जवाब है। जीत बताती है कि लोगों ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के एडमिनिस्ट्रेशन पर भरोसा जताया है।”
– नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, “हमने सोनियाजी, राहुलजी को लाल रिबन से पैक कर जीत का गिफ्ट भेज दिया है। पंजे के थप्पड़ की गूंज दिल्ली तक सुनाई देगी।”
– सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि ये विकास के एजेंडे की जीत है।
– “जाखड़ साहब की जीत काबिलियत की जीत है। वो संसद में बोलेंगे तो सोनियाजी, राहुलजी, कैप्टन साहब (अमरिंदर सिंह) का नाम ऊंचा होगा।”
– “जाखड़ साहब की जीत से जीजा-साले (प्रकाश सिंह बादल और विक्रम सिंह मजीठिया) को सबक मिला।”
– 2009 में गुरदासपुर लोकसभा सीट कांग्रेस के प्रताप सिंह बाजवा ने जीती थी। बाजवा ने विनोद खन्ना को हराया था।

11 अक्टूबर को था चुनाव
– गुरदासपुर उपचुनाव में 11 अक्टूबर को वोट डाले गए थे। इसमें 15.22 लाख मतदाताओं में से 56% लोगों ने वोटिंग की थी।
– 2014 के लोकसभा चुनाव में गुरदासपुर में 70% वोटिंग हुई थी। अप्रैल में विनोद खन्ना के निधन के बाद ये लोकसभा सीट खाली हुई थी।
बीजेपी से 4 बार सांसद रहे थे विनोद
– विनोद खन्ना बीजेपी के टिकट पर यहां से 4 बार (1998, 1999, 2004 और 2014) सांसद रहे थे।
– कुछ दिन पहले कांग्रेस कैंडिडेट जाखड़ ने उपचुनाव को मोदी सरकार का टेस्ट करार दिया था।
– गुरदासपुर संसदीय सीट में 9 विधानसभा क्षेत्र भोआ, पठानकोट, गुरदासपुर, दीनानगर, कादियां, फतेहगढ़ चूड़ियां, डेरा बाबा नानक, सुजानपुर और बटाला हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *