Mother of twins becomes Mrs India Universe

mrs universeGurgaon> Mother of twins Neetu Khosla has become Mrs India Universe at the pagent held at Udaipur. In all, 80 contestants took part in it.
गुड़गांव.हरियाणा के गुड़गांव की रहने वाली दो जुड़वा बच्चों की मां नीतू खोसला ने मिसेज इंडिया यूनिवर्स का ताज अपने नाम किया है। नीतू खोसला के पति आर्मी में कर्नल हैं और वह मूल रूप से अंबाला की रहने वाली है। मात्र तीन महीने की मेहनत से ही नीतू खोसला ने यह सफलता पाई है। नीतू का कहना है कि वह अब घर में कामकाजी महिलाओं को घर से बाहर निकलकर ऐसे आयोजनों में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करेंगी। जुड़वा बच्चों की मां है नीतू…
– नीतू खोसला जो अंबाला, हरियाणा में पली- बड़ी हैं। नीतू ने तीन महीने पहले ही मिसेज इंडिया यूनिवर्स में हिस्सा लेने के लिए मन बनाया था। लेकिन इससे पहले उसने अपने वजन और फिटनेस पर काफी मेहनत की।
– साल 2005 में जुड़वा बच्चों को जन्म देने से पहले से नीतू का वजन बढ़कर 85 किलो तक पहुंच गया था। लेकिन इसके बाद नीतू ने जिम ज्वाइन कर 30 किलो तक वजन कम किया।
इसके बाद 2015 में सर्ववाइकल होने के कारण दोबारा से वेट बढ़कर 65 किलोग्राम तक पहुंच गया। लेकिन गत सितंबर में ऑडिशन देने से पहले ही नीतू ने दोबारा से वेट कम किया और आज 55 किलोग्राम वजन है। इसके लिए उन्हें फिटनेस ट्रेनर भी रखना पड़ा।

– उदयपुर में आयोजित मिसेज यूनिवर्स कॉन्टेस्ट में करीब 42 कंट्स्टेंट्स ने हिस्सा लिया। जिनमें 12 यूके, दो सिंगापुर, एक दुबई एक हांगकांग से शामिल थे।
– नीतू ने बताया कि उसके आर्गेनाइजर तुषार धालीवाल अर्चना तोमर ने उसे इस प्रतियोगिता के लिए प्रोत्साहित किया।
– 22 अक्टूबर से 27 अक्टूबर तक उदयपुर में एक कमरे में बिग बॉस के घर की तरह रूम मेट्स के साथ रही लेकिन इस प्रतियोगिता के लिए सबकुछ सहन किया।
– 27 अक्टूबर को फिनाले में आखिरकार उसे एक साथ दो ताज मिले, जिनमें एक मिसेज इंडिया यूनिवर्स दूसरा इंडिया ग्लैमर्स।
– नीतू ने बताया कि उसे दोनों ताज बॉलीवुड के प्रोड्यूसर राकेश सभ्रवाल ने पहनाए और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

कैमिस्ट्री में पोस्ट ग्रेजुएट हैं नीतू
– वे कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से केमिस्ट्री में पोस्ट ग्रैजुएट हैं और एक इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर पढ़ाती थी।
– वे इससे पहले देश के अन्य जगहों पर भी पढ़ा चुकी हैं। अपनी कॉलेज मैगजीन की वे पहली चीफ एडिटर भी रह चुकी हैं। इस काम के लिए उन्हें कॉलेज की तरफ से प्रशंसा पत्र भी दिया गया था।
पहली बार किया कैटवॉक
– वजन कम होने पर नीतू को मिसेज यूनिवर्स बनने की ललक पैदा हुई। इसके लिए उसने सबसे पहले अपने वजन फिटनेस पर ध्यान दिया।
– खुशी की बात है कि पहली बार में ही वह सफल भी रही। नीतू स्कूल, कॉलेज कहीं भी रैम्प पर चलकर नहीं देखा और पहला मौका मिला तो सफल हो गई।
फिटनेससे खास लगाव
नीतू का मानना है कि फिटनेस एक ऐसी चीज है जिसे ना तो चुराया जा सकता है, ना खरीदा जा सकता है। फिटनेस सिर्फ और सिर्फ अपनी मेहनत और लगन से पाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *