Doctor rapes patient’s girl attendant in hospital bathroom

rapeKurukshetra: A female patient’s girl attendant was raped by a doctor in hospital bathroom. Since then, the accused doctor is absconding. Police has filed an FIR.
सहेली के साथ इलाज कराने आई थी महिला, डॉक्टर ने बाथरूम में किया रेप
कुरुक्षेत्र.बीमार सहेली को लेकर हॉस्पिटल पहुंची महिला ने डॉक्टर पर इलाज के बहाने नशीला इंजेक्शन देकर कथित रेप करने का आरोप लगाया है। मंगलवार शाम को यह घटना हुई। इसके करीब पौने घंटे बाद महिला ने सहेली व बहन के साथ पुलिस को आपबीती सुनाई। इसके बाद जहां पुलिस एक्टिव हुई। वहीं हेल्थ डिपार्टमेंट में भी हलचल मच गई। बुधवार को भी पूरा दिन अस्पताल में जांच पड़ताल चलती रही। हालांकि इस दौरान आरोपी डॉक्टर हॉस्पिटल में नजर नहीं आया। विक्टिम ने सुनाई आपबीती

– विक्टिम महिला ने बताया कि वह मंगलवार सुबह 11 बजे एलएनजेपी हॉस्पिटल में दवा लेने आई। उसकी पर्ची डॉ. शैलेंद्र के पास थी।
– वहां बसंतपुर की रहने वाली उसकी परिचित भी मिली। जिसे डॉ. शैलेंद्र ने एमरजेंसी में एडमिट करा दिया।
“मुझे कहा कि आपको दवाई दी है। एक घंटा दाखिल होना पड़ेगा और एक इंजेक्शन लगेगा। इसके बाद साढ़े चार बजे वह डॉक्टर के पास गई।”
“डॉक्टर ने उसे ओपीडी रूम में इंजेक्शन लगाया। इसके बाद उसे तुरंत उल्टी आई तो वह ओपीडी के बाथरूम में चली गई। इसी बीच डॉक्टर ने दरवाजा बंद कर अंदर गद्दा बिछा दिया। ”
“उससे कहा कि वह यहां लेट जाए। उस पर बेसुधी छाने लगी। इसके बाद डॉक्टर ने उसके साथ रेप किया। जैसे होश आया तो वह बाहर निकली। बाहर उसकी परिचित मिली। उसे सारी बात बताई। अपनी बहन को फोन कर यहां बुलाया। कुछ देर यही सोचते रहे कि बदनामी के डर के चलते शिकायत करें या नहीं। इसके बाद पुलिस को शिकायत करने का फैसला लिया।”
– बताया जा रहा है कि उसे पुलिस ने डिटेन किया है। हालांकि बुधवार रात तक पुलिस इससे इंकार ही करती रही। उधर विक्टिम को भी सामने नहीं आने दिया गया। गुपचुप पुलिस ने मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान भी दर्ज करवा दिए।

मची हलचल, पहले जांच-फिर केस:
– पता चलते ही पुलिस तुरंत हॉस्पिटल पहुंची। हेल्थ डिपार्टमेंट में भी हलचल मच गई।
– डीएसपी गुरमेल सिंह, एसएचओ रमेश जागलान व चौकी प्रभारी जयकर्ण, महिला प्रभारी प्रवीण कौर मौके पर पहुंचे।
– रात करीब साढ़े 11 बजे तक पुलिस हॉस्पिटल में जांच करती रही। इसके बाद महिला के बयानों के आधार पर केस दर्ज किया। एमएसए डॉ. मुकेश व आरएमओ डॉ. एसएस अरोड़ा भी पहुंच गए।

तीन डॉक्टर्स ने किया मेडिकल
रात को ही तीन महिला डॉक्टर्स को हॉस्पिटल बुलाया गया। तीन डॉक्टर के पैनल ने कंप्लेनेन्ट का मेडिकल किया। हालांकि इसे लेकर महिला डॉक्टर कोई खुलासा नहीं कर रही। बोली कि वे अपनी रिपोर्ट पुलिस को सौंप चुकी हैं।
पुलिस ने खंगाली सीसीटीवी फुटेज
– आधी रात तक एमएस के रूम में पुलिस जांच करती रही। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज भी खंगाली। उक्त डॉक्टर को रात को पुलिस ने अस्पताल में रोके रखा।
– बुधवार को डॉक्टर ड्यूटी पर नहीं पहुंचे। पहले यही कहा गया कि डॉक्टर को हिरासत में लिया है। दोपहर बाद पेश किया जा सकता है, लेकिन बाद में पुलिस ने तर्क दिया कि डॉक्टर से संबंधित मामला है। अभी पुलिस जांच कर रही है।
– बुधवार को जांच डीएसपी तान्या को सौंपी। जिस पर तान्या ने दोबारा से जांच की। शिकायतकर्ता को बुधवार देर शाम फिर से निशानदेही व मुआयने के लिए हॉस्पिटल लाया गया।

पहले होगी जांच, फिर अगला एक्शन लिया जाएगा : एसपी
– एसपी अभिषेक गर्ग ने कहा कि मामले की जांच डीएसपी तान्या को सौंपी है। पुलिस निष्पक्ष जांच करेगी।
– डीएसपी तान्या का कहना है कि वे अभी इस मामले की गहन जांच के बाद ही कुछ बताएंगी। अभी डॉक्टर को गिरफ्तार नहीं किया है।
फुटेज में आधे घंटे के बीच दिखा आना जाना
– सीसीटीवी फुटेज में पांच बजकर चार मिनट पर महिला उक्त डॉक्टर की ओपीडी में जाते दिखती हैं। इसके बाद कमरे का दरवाजा बंद दिखता है। हालांकि आमतौर पर उक्त दरवाजा बंद ही रहता है। बीच में परिचित महिला दरवाजे तक आती दिखती है। इसके बाद पांच बजकर 38 मिनट पर शिकायतकर्ता बाहर आती है। जहां उसे परिचित मिलती है।
– डीएसपी गुरमेल सिंह का कहना है कि ओपीडी के दो दरवाजे हैं। ऐसे में जांच की जा रही है कि दोनों दरवाजे बंद थे या नहीं। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
साजिश के तहत फंसाया
– वहीं डॉ. शैलेंद्र का कहना है कि उन्हें साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। ओपीडी रूम में मरीजों का आना जाना रहता है। स्टाफ भी मौजूद होता है।
– वे शाम को रोजाना ही पेशेंट देखने आते हैं। निष्पक्ष जांच हो, तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। वे हर तरह की जांच के लिए तैयार हैं।

निष्पक्षता हो जांच :
वहीं एलएनजेपी हॉस्पिटल के डॉक्टर भी डॉ. शैलेंद्र के समर्थन में उतरे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इस पूरे मामले की निष्पक्षता से जांच होनी चाहिए। जो भी दोषी हो, उस पर सख्त कार्रवाई हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *