Schoolboy kills 5 years old girl for Rs. 20 lakh ransom

kidnapAmbala: A class XI student murdered a 5 years old girl for Rs. 20 lakh ransom here. after murder he hid the dead body in a cooler. Victim was a student of UKG in convent school.
बच्ची की हत्या कर कूलर में छिपाई लाश, 11वीं के लड़के ने बनाया यह प्लान
अंबाला। यहां घर के बाहर खेल रही पांच साल की वैष्णवी का करीब साढ़े 4 बजे किडनैप हो गया। परिवार उसकी तलाश कर रहा था, तभी शाम करीब 7 बजे किडनैपर्स ने यूपी के नंबर से पड़ोसी के फोन पर कॉल करके 20 लाख रुपए की फिरौती मांगी। यह कॉल बच्ची को रिहा करने के लिए किया गया था। परिवार से मिली सूचना के बाद पुलिस अलर्ट तो हुई, लेकिन बच्ची को नहीं बचा पाई। क्योंकि इससे पहले ही किडनैपर बच्ची को पानी में डुबो कर मार चुका था और उसने पुलिस को गुमराह करने के लिए शव को कूलर में छिपा दिया था। क्या है पूरा मामला

– बुधवार शाम गांव बोह में रहने वाली वैष्णवी सिसिल कॉन्वेंट स्कूल में यूकेजी की स्टूडेंट थी।
– वह अपने चाचा विनय सूद को चाय देने गई थी। इसके बाद वह खेलने चली गई।
– खेलते-खेलते किसी ने उसका किडनैप कर लिया। परिवार को इसकी कानोंकान भनक तक नहीं लगी।
– जब शाम करीब 6 बजे तक बच्ची घर नहीं लौटी तो परिवार ने इधर-उधर तलाश शुरू की लेकिन कोई सफलता परिवार के हाथ ना लगी।
– हालांकि इस बीच वैष्णवी के पिता अमित सूद ने पुलिस को सूचित भी किया। फिर भी उसकी कोई जानकारी नहीं हुई।
– शाम 7 बजे अमित सूद के पड़ोसी के पास एक अनजान नंबर से कॉल आया जिसने फोन पर अमित की बेटी वैष्णवी को छोड़ने की एवज में 20 लाख रुपए की फिरौती मांगी।
– वह युवकों से कोई और बात कर पाता, इससे पहले फोन कट हो गया। लिहाजा, आनन-फानन में पड़ोसी ने इस बात की जानकारी अमित को दी जिसे सुनते ही पूरा परिवार सहम गया क्योंकि उन्हें इस बात का जरा भी आभास नहीं था कि कोई उनसे इस तरह की डिमांड भी कर सकता है।
ग्यारहवीं के स्टूडेंट ने रची अगवा से लेकर हत्या तक की साजिश
– पुलिस की शुरुआती जांच में सामने आया कि वैष्णवी के अगवा करने के बाद हत्या की साजिश कैंट के ही एक नामी एडिड स्कूल में पढ़ने वाले 11वीं क्लास के स्टूडेंट ने रची है।
– यह सब छात्र ने क्यों और किसलिए किया, अभी इस बात का पता नहीं चल पाया है।
अफसोस बच्ची को बचा ना पाए
– एसपी ने बताया कि नंबर किडनैपिंग के बाद फिरौती का कॉल आते ही पुलिस अलर्ट हो गई थी। तमाम जगह नाकाबंदी कर दी थी। सभी स्पेशल टीम और डीएसपी रैंक के अधिकारी किडनैपर्स का पीछा कर रहे थे, क्योंकि नंबर यूपी का था, इसलिए पुलिस देर रात तक साइबर सेल की मदद से ट्रैक करने में जुटी रही।
– आखिर में पुलिस जब उस नंबर तक पहुंची तो उन्हें किडनैपर मिल गया। अफसोस इस बात का है कि वह बच्ची को पानी में डुबो कर मार चुका था और उसने पुलिस को गुमराह करने के लिए बच्ची के शव को कूलर में छिपा दिया था। मामले में और कौन लोग शामिल हैं, इसे लेकर जांच चल रही है।
पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल
– छात्र की इस हरकत ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल जरूर खड़ा कर दिया है। वह भी इसलिए क्योंकि 15-16 साल का एक युवक सरेबाजार से एक छात्रा को अगवा करके ले जाता है और आस-पड़ोस सहित तमाम लोगों को इसकी भनक तक नहीं लगती। 4 घंटे के बाद पुलिस अलर्ट होती है और बच्ची को तलाशना शुरू करती है। वह भी तब, जब यही युवक यूपी के एक नंबर से कॉल करके परिवार से फिरौती की मांग करता है।
– पुलिस उस कॉल के बाद उस नंबर के पीछे तो लगती है लेकिन यह समझना जरूरी नहीं समझती कि आखिर किडनैपर के पास अमित सूद के पड़ोसी का नंबर कहां से आया और उसने अमित को फोन करने की बजाए पड़ोसी को फोन करना जरूरी क्यों समझा। क्योंकि वह युवक चालाक है और पूरी साजिश रच चुका था।
– सूचना मिलते ही आनन-फानन में उस नंबर का पीछा करती है और अंबाला सहित यमुनानगर तक तमाम नाकों को सील कर देती है। बावजूद इसके, पुलिस रात साढ़े 12 बजे तक बच्ची को तलाशने में फेल साबित होती है, जबकि किडनैपर अमित सूद के पड़ोस में ही बैठकर इस पूरे नैटवर्क से जुड़ी साजिश को अंजाम देता है।
– सूचना के बाद पुलिस की दनदनाती जिप्सियों को देखकर किडनैपर यानी छात्र हड़बड़ा जाता है और कहीं बच्ची की आवाज सुनकर पुलिस उस तक पहुंच जाए, इसलिए पुलिस को गुमराह करने की हरसंभव कोशिश करता है जबकि वह बच्ची को शाम करीब 8 बजे ही बच्ची को मौत के घाट उतार चुका है।
– इस पूरी साजिश में वह चार नंबर इस्तेमाल करता है। सभी नंबर यूपी के बताए जा रहे हैं। इसके अलावा छात्र के पास एक लैपटॉप भी बरामद होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *