Woman jumps from 6th floor after husband’s death, dies

suicidesurat: A woman jumped from her sixth floor residence and died after being distraught with grief over the death of her husband in a road accident on Friday, police said.
Shweta Surekha,35, jumped from the sixth floor of Surya Apartment in Umra locality, police said. Her husband, Anand Surekha, a cloth merchant, had died in a road accident on Friday.
CCTV footage from the apartment captured the moment she fell from the house. Even as she is falling down, two people below the apartment are seen rushing to break her fall. While one of them reaches to catch her in his arms, she falls and dies, with the person sustaining injuries in his arms.
“Shweta Surekha killed herself after jumping from the her fifth floor residence by breaking the bathroom window. She took the extreme step as she was disturbed following the death of her husband in a road accident on Friday,” an official from Umra police station said.
Police said that no suicide note had been found.
Live Suicide: ऊपर देखा भाभी जी कूद रही हैं, मैं चिल्लाया भी, लेकिन वो नहीं रुकी
सूरत.तिरुपति साड़ी के मालिक आनंद सुरेका की मौत का सदमा उनकी पत्नी श्वेता सुरेका (37 ) बर्दाश्त नहीं कर पाई। पति की मौत के ठीक चौथे दिन सोमवार को श्वेता सुरेका ने भी अपने घर की पांचवीं मंजिल की खिड़की से कूदकर अपनी जान दे दी। उन्हें छलांग लगाते देख कुछ लोग उन्हें बचाने के लिए दौड़े लेकिन बचा नहीं सके। वहीं इस हिलाकर रख देने वाले मंजर को सबसे पहले देखने वाले चौकीदार महेश ने बताया कि बिल्डिंग का कांच टूटने पर जब उसने ऊपर देखा तो भाभी जी(श्वेता सुरेका) कूद रही हैं, मैं चिल्लाया भी, लेकिन वो नहीं रुकीं।
मंजर देख चश्मदीद के भी उड़ गए होश
सूर्या पैलेस के सिक्युरिटी गार्ड महेश गोस्वामी के मुताबिक, मैं सुबह 8 बजे ड्यूटी पर आया। पिछले गेट पर मेरी ड्यूटी थी। उस समय भाभी जी (श्वेता) के भाई संजय उनके दोनों बेटों केशव और मुदित को स्कूल के लिए नीचे छोड़ने उतरे थे। दोनों को स्कूल की गाड़ी में बैठाकर संजय भाई सूर्या पैलेस के दरवाजे से अंदर आए। उसी पल कांच गिरने की आवाज आई। आवाज आते ही मैंने इधर-उधर देखा तो कुछ नजर नहीं आया। फिर मेरी नजर ऊपर गई, तो देखा पांचवीं मंजिल की खिड़की से भाभीजी सिर निकालकर छलांग लगाने जा रही थीं। यह मंजर देख मेरे होश उड़ गए। मैं जोर-जोर से चिल्लाने लगा।
पलक झपकते ही पूरा हादसा हो गया
आगे महेश ने बताया कि, नीचे खड़े मनोज भाई और भाभी जी के भाई संजय ने भी ऊपर देखा। श्वेता भाभी को खिड़की से निकलते देख संजय और मनोज दोनों ही उन्हें बचाने के लिए दौड़े। इस कोशिश में भाभी जी उनके पैरों पर गिरीं। एक पल के लिए लगा कि यह सपना है। पलक झपकते ही पूरा हादसा हो गया और भाभी जी की मौत हो गई। खून चारों तरफ फैल गया था। मनोज भाई और संजय भाई के पैरों पर भी चोट आई थी। मैंने अपनी पूरी जिंदगी में इस प्रकार की घटना नहीं देखी। मेरे दिमाग में वही मंजर घूम रहा है।
ननद ने देखी भाभी की खून में लथपथ पड़ी लाश
आनंद सुरेका की बहन रश्मि के मुताबिक, आनंद भैया के देहांत के बाद श्वेता भाभी जैसे होश में ही नहीं रहती थीं। उन्होंने किसी से बात करना भी बंद कर दिया था। वह खाना भी ठीक से नहीं खाती थीं। सोमवार को अग्रसेन भवन में आनंद भैया की शोक सभा रखी गई थी। हमें लगा कि भाभी होश में ही नहीं है तो शोक सभा में कैसे आएंगी। फिर भी हमने पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं शोक सभा में चलूंगी। सुबह 8:30 बजे भाभी तैयार होने गई। वह बाथरूम में नहाने के लिए गई थीं। हम सभी बाथरूम के इर्द-गिर्द ही थे। थोड़ी देर बाद हमने बिल्डिंग के नीचे से जोर-जोर से चिल्लाने की आवाज सुनी। पहले हमने सोचा कि शायद नीचे कुछ हुआ है। हम तुरंत नीचे गए। वहां हमने देखा कि मेरी भाभी ही खून में लथपथ पड़ी हैं। यह देखकर हमारे पैरों तले से जमीन खिसक गई। हमें नहीं पता था कि नीचे आकर देखेंगे तो हमें अपनी ही भाभी की लाश देखने को मिलेगी। भैया के देहांत के बाद भाभी शोक में जरूर थी, लेकिन कभी भी ऐसा नहीं लगा कि वह इतना बड़ा कदम उठा सकती हैं। हम एक-दूसरे को हिम्मत देते रहे। एक-दूसरे के कंधे का सहारा लेते रहे। भैया-भाभी के चले जाने से हम पूरी तरह टूट गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *